गिरना

गिरना

सब गिरना ही तो है 

चाहे 

ऊँचाई से नीचे आना

या गिराया जाना 

परदे का 

या ख़ुद का 

या फिर दंडवत होना 

श्रद्धावश 

या  क्षमा माँगने के लिये 

सब गिरना ही तो है 

जैसे 

लगाव हटना 

नीचे आना

नदी मे मिल जाना

नीचे का स्तर पाना 

शक्ति ह्रास 

सम्मान खोना

प्रभाव का अभाव

Published by

Vrikshamandir

A novice blogger who likes to read and write and share