मानव संसाधन विकास

अगस्त 1999 में लिखी यह गद्य कविता खो गई थी । बरसों बाद मिली । इसे 2020 नवंबर में वृक्षमंदिर पर प्रकाशित किया गया था । “नीयत” और “नियति“ की कश्मकश की धुँध मे जब ज़िंदगी को कुछ सूझता नहीं, समझ में नहीं आता तब चल पड़ती है ज़िंदगी , “नियति” द्वारा “नियत” किये गयेContinue reading “मानव संसाधन विकास”

Resources and Links to Web Pages

https://archive.org/stream/BrickByBrick-StoryOfIimAhmedabadIndia/brickbyredbrick-150_djvu.txt Portraits of …. over the years.. Hindi Poetry https://chakradhar.in/kavi-sammelan/poets/ Books on and by Dr Kurien AMUL: An Experiment in Rural Economic Development Story, 1981 by Singh, S.P. and Paul L. Kelly, Macmillan India Ltd. Management Kurien Style: The story of the white revolution, 1989 by MV Kamath published by Konark Publishers. An Unfinished DreamContinue reading “Resources and Links to Web Pages”

क्या हनुमान ने सूर्य को सचमुच लील लिया था ?

तथाकथित “लिबरल” “सेक्यूलर” “आधुनिक” शिक्षा ने,भारत जैसे देश मे जिसका हज़ारों साल का इतिहास और परंपरा रही है, रैशनल थिंकिंग के नाम पर जुमलेबाजी और परंपरा का उपहास करना तो ख़ूब सिखाया पर कोई आलटर्नेटिव सोच देने मे असमर्थ रही है। फलस्वरूप शाब्दिक अर्थ तथा अपनी सीमित सोच और पुस्तकीय ज्ञान के तथा ”लिबरल” “सेक्यूलर”Continue reading “क्या हनुमान ने सूर्य को सचमुच लील लिया था ?”