A matter of height

Photo: Painting by Dr Rama Aneja

I read this poem by Dr Pradip Khandwala on Facebook. I have attempted a translation in Hindi. I am posting on Vrikshamandir with his permission.

डाक्टर प्रदीप खांडवाला की यह मैंने कविता फेसबुक पर पढी और उसका हिंदी में अनुवाद करने का प्रयास किया है, उनकी अनुमति से वृक्षमंदिर पर ।


A matter of height 

Strange it is to die
after shuttering a shop.

But that’s what happened to a friend of mine.
He died while locking up the past!

He was unlucky.

But when you die shutting out you open the future, don’t you, to fresh life?

In my life from time to time
I have abandoned much – relationships, memories, way of life, places.

On each occasion I thought I had grown.

Had I?

I remember how I had bolted from pain when demise was closing in on my mother.
And when I left my people to go abroad.
And when I changed my profession.
And when I abandoned a love.

I had wanted more and more and the past offered less and less.

But I measured my height recently
after years of a lengthening biodataand
how come I find that I have grown shorter?
ऊंचाई का माजरा

अजीब बात है दूकान बंद कर मर जाना,
वर्षों से चल रही दुकान पर लगा ताला

पर यह ही तो हुआ मेरे एक दोस्त को,
वह अतीत की दुकान को बंद करते हुए मर गया!

वह बदकिस्मत था।

लेकिन जब हम अतीत के दरवाज़े बंद करते हैं, तब ही तो खुलते हैं दरवाज़े भविष्य के। एक नये जीवन के लिए?

मेरे जीवन में भी कुछ ऐसा ही हुआ । समय - समय पर मैंने बहुत कुछ छोड़ दिया है - रिश्ते, यादें, जीने का तरीका, स्थान।

हर मौके पर मुझे हर बार लगा कि मैं बड़ा हो गया हूं ।

पर क्या वास्तव में ऐसा ही हुआ?

मुझे याद है कैसे मैं दर्द से लड़खड़ा गया था,
जब आसन्न मृत्यु मंडरा रही थी ले जाने मेरी मां को,
और जब मै अपने लोगों को छोड़ विदेश जा रहा था,
और जब मैंने अपना पेशा बदल दिया था,
और जब मैंने एक प्यार को छोड़ दिया।

मैं और अधिक चाहता था,अतीत ने हमेशा कम और
कम की ही पेशकश की।

पर जब मैंने हाल ही मे अपनी ऊंचाई मापी,
बरसों बाद अतीत के पन्नों से भरे अपने जीवनवृतांत से,
ऐसा क्यों लगा,
कि मैं छोटा हो गया हूँ?
leaf, autumn, nature-6586792.jpg

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.