About

Panchvati July 2019

वृक्षमंदिर

कभी भूले से भी अब याद भी आती नहीं जिन की
वही क़िस्से ज़माने को सुनाना चाहते हैं हम ~ वाली आसी

I want to narrate to the world, stories that are not remembered even by mistake ~ Wali Asi

Life has a “life” of it’s own

जीवन का एक अपना ही “जीवन” होता है ।



This initiative started as an attempt to write memoirs but over time it has become much more than that. Dedicated to stories and conversations on human development, culture and tradition.

प्रारंभ में इस प्रयास का ध्येय तो केवल अपने संस्मरण लिखने का था, पर कालांतर में इसका स्वरूप बदला और अब भी बदल रहा है।

आभार

This initiative has been possible because of love and support of my former colleagues and friends.

मानव विकास, संस्कृति और संवाद के प्रति समर्पित यह प्रयास मेरे प्रिय मित्रों और स्नेही जनों के सहयोग से ही संभव हो सका है


Contact  sk@vrikshamandir.com  and/ or leave comments at the end of each post 

Remembering those whom we lost


From here and there कुछ इधर की कुछ उधर की